मंगलवार, 23 जनवरी 2024

Groww ने किया लोगों के साथ धोखा ! आइए जानते हैं कैसे किया?

Groww ने किया लोगों के साथ धोखा ! आइए जानते हैं कैसे किया?



 ऑनलाइन ट्रेडिंग एप ग्रो मंगलवार सुबह से काम नहीं कर रहा है. यूजर्स पासवर्ड डाल कर लॉगइन करने की कोशिश कर रहे हैं लेकिन ऐप में लॉगइन नहीं हो पा रहा है. इस वजह से यूजर्स को स्टॉक, म्यूचुअल फंड्स व दूसरे फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स में ट्रेडिंग करने में दिकक्त हो रही है. कई यूजर्स ने इस दिक्क्त के बारे में सोशल मीडिया ऐप पर X (पहले ट्विटर) पर शिकायत की. यूजर्स ने बताया कि जब वे इंट्राडे ट्रेड के लिए लॉगिन करने का प्रयास कर रहे थे, तो ऐप में कई समस्याएं हो रही थीं.

एक यूजर ने X पर लिखा “आज मेरा Groww एप्लिकेशन खुला नहीं है, जब से बाजार खुला है, मेरी वॉचलिस्ट दो दिन पहले नहीं खुली थी, मेरी खुली पोजीशनें समाप्त होने वाली हैं, मेरे नुकसानों का कौन भरेगा.

यूजर्स ने किया ट्वीट

एक अन्य यूजर ने कहा: “Groww एप्लिकेशन काम नहीं कर रहा है @_groww. कई बार प्रयास किया, फ्लाइट मोड किया और फिर भी काम नहीं कर रहा है. ऐसा लगता है कि उनका प्रोडक्शन सर्वर डाउन है. कृपया इसे ठीक करें.”

“यह Groww ऐप की स्थिति पीक ट्रेडिंग समय में है. तुम्हारे खराब एप्लिकेशन के कारण हुए नुकसान के लिए कौन जिम्मेदार होगा,” एक और यूजर ने टिप्पणी की.

“यह बहुत बुरा है @_groww. एक जिम्मेदार ऐप ऐसा कैसे और खराब हो सकता है? हम इसे कैसे संभाल सकते हैं? हम में से कई लोगों के पास व्यापारिक स्थितियां हैं, और आपको इसके लिए भुगतान करना होगा,” एक अन्य यूजर ने ध्यान दिया.

दूसरी ऐप पर स्विच
ग्रो की सर्विस से परेशान होकर कई यूजर ने दूसरे ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर स्विच करने की बात भी कही. एक यूजर ने ट्वीट कर कहा कि “@_groww ऐप यह स्वीकार्य नहीं है. मेरे नुकसान कौन भुरेगा? एंजल वन में स्विच करने का समय है.

ग्रो का जबाव

इस बीच यूजर्स की समस्याओं को समझते हुए ग्रो ने भी ट्वीट पर माफी मांगी है और ऐप को जल्द से जल्द ठीक करने की बात कही है.  ग्रो ऐप ने असुविधा के लिए खेद जताया है. उन्होंने कहा है कि ग्रो ऐप की टीम तकनीकी समस्या पर काम कर रही है और जिसे तुरंत सुलझाया जाएगा.

इससे पहले, 13 जनवरी, 2024 को भी एप्लीकेशन के साथ तकनीकी समस्याओं सामने आई थी. एप्लिकेशन ने उसी दिन व्यापार के आरंभ होने से पहले काम करना बंद कर दिया था.

Groww Not Working, Groww Technical Issue 

लेबल: ,

Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 Wishes & Quotes in Hindi: नेताजी सुभाष चंद्र बोस जयंती पर बधाई के लिए भेजें ये संदेश

 Subhash Chandra Bose Jayanti 2024 Wishes & Quotes in Hindi: सुभाष चंद्र बोस की जयंती को "पराक्रम दिवस" के रूप में भी मनाया जाता है। यह दिन उनके साहस और देशभक्ति को याद करने का दिन है।


सुभाष चंद्र बोस का जन्म 23 जनवरी, 1897 को उड़ीसा के कटक शहर में हुआ था। वे एक महान स्वतंत्रता सेनानी और देशभक्त थे। उन्होंने भारत की आजादी के लिए अपना सब कुछ न्योछावर कर दिया। उन्हें "नेताजी" के नाम से भी जाना जाता है।


भारत सरकार द्वारा 2021 में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयन्ती से पहले इस दिवस को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की गयी थी।

सुभाष चंद्र बोस की जयंती को "पराक्रम दिवस" के रूप में भी मनाया जाता है। यह दिन उनके साहस और देशभक्ति को याद करने का दिन है।

नीचे कुछ संदेश दिए गए हैं जिन्हें आप अपने दोस्तों, परिवार और अन्य प्रियजनों को भेज सकते हैं:


लेबल: ,

सोमवार, 22 जनवरी 2024

मैं पृथ्वी पर सबसे भाग्यशाली व्यक्ति हूं": अरुण योगीराज, वह व्यक्ति जिसने राम लला की मूर्ति बनाई

 मूर्तिकार अरुण योगीराज ने अयोध्या के राम मंदिर समारोह से पहले आभार व्यक्त किया, जो पीएम मोदी और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत जैसे गणमान्य व्यक्तियों के साथ 'राम राज्य' की शुरुआत का प्रतीक है।




अयोध्या के राम मंदिर में राम लला के प्राण प्रतिष्ठा समारोह से पहले, राम लला की मूर्ति को तराशने वाले मूर्तिकार अरुण योगीराज खुद को गहन आशीर्वाद की स्थिति में पाते हैं।

लेबल: ,

मीरा रोड पर सनातन यात्रा को लेकर बवाल

 मीरा रोड पर सनातन यात्रा को लेकर बवाल, हमलावरों ने की तोड़फोड़; पुलिस बल तैनात


दुनियाभर में राम मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर धूम मची हुई है। देश के कई हिस्सों में सनातन धर्म यात्रा का आयोजन किया जा रहा है। बड़ी संख्या में कीर्तन, सुंदरकाण्ड का पाठ किया जा रहा है। इसी बीच, मुंबई के भयंदर में निकाली गई सनातन धर्म यात्रा के दौरान बवाल खड़ा हो गया है। कुछ अराजक तत्व ने यात्रा पर लाठी-डंडे से हमला किया। साथ ही धार्मिक ध्वजों को फाड़ा गया और गाड़ियों में तोड़फोड़ की गई। तनाव को बढ़ता देख पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामले को शांत किया है। 


मुंबई के भयंदर में निकाली गई सनातन धर्म यात्रा के दौरान बवाल खड़ा हो गया है। कुछ अराजक तत्व ने यात्रा पर लाठी-डंडे से हमला किया।

यात्रा में मौजूद गाड़ियों में लगे ध्वजों को फाड़ा गया। यह घटना 21 जनवरी की रात 12 बजे की है। माहौल को बिगड़ता देख पुलिस बड़ी संख्या में घटना स्थल पर पहुंच गई। हालांकि पुलिस ने मामले को शांत करा दिया है। मामले ने नया नगर पुलिस ने पांच लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है, उन्हें गिरफ्तार भी किया गया। मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच शुरू कर दी गई है।

गौरतलब है कि मीरा रोड पर हुई घटना को लेकर सोशल मीडिया पर तमाम प्रतिक्रिया आ रही है। इस दौरान तमाम लोगों ने हमलावरों को गिरफ्तार करने की मांग की है। घटना से जुड़ी कई वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रही है। वीडियो में साफ दिख रहा है कि हमलावरों ने यात्रा में शामिल महिलाओं को भी नहीं छोड़ा, उनके साथ जमकर मारपीट की गई। सनातन यात्रा निकाल रहे लोगों का कहना है कि वे शांति पूर्वक यात्रा निकाल रहे थे। मीरा रोड पर अचानक कुछ हमलावरों ने यात्रा पर हमला कर दिया। इस दौरान हमलावरों ने यात्रा में मौजूद कारों पर हमला किया। 



लेबल: ,

रामलला विराजमान हो गए हैं. प्राण प्रतिष्ठा के अनुष्ठान में पीएम नरेंद्र मोदी, संघ प्रमुख भागवत, और सीएम योगी आदित्यनाथ

गर्भगृह में आ गए राम भगवान... राम मंदिर में हुई रामलला की प्राण प्रतिष्ठा, मोदी-भागवत-योगी बने यजमान _राम मंदिर के गर्भगृह में रामलला विराजमान हो गए हैं. प्राण प्रतिष्ठा के अनुष्ठान में पीएम नरेंद्र मोदी, संघ प्रमुख भागवत, और सीएम योगी आदित्यनाथ यजमान बने हैं. राम मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा संपन्न, क्या आपके हिसाब से भारत ने इसके साथ ही एक नया इतिहास रच दिया है?

Narendra Modi, Yogi Aadityanath



लेबल: ,

अयोध्या में राम जन्मभूमि की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या कह रहा है पाकिस्तानी मीडिया?

 अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या कह रहा है पाकिस्तानी मीडिया?


अयोध्या नगरी के राम मंदिर में आज रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होनी है जिसे लेकर देशभर में उत्सव का माहौल है. भारत के लेकर विदेशों की मीडिया में भी राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा की खबरें चल रही है. इसे लेकर पाकिस्तान और कतर जैसे देशों की मीडिया ने भी रिपोर्टें प्रकाशित की है. 



अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में सोमवार के दिन यानी आज रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हो रही है. प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगा आदित्यनाथ की मौजूदगी में संपन्न किया जाएगा. यह कार्यक्रम दोपहर 12 बजकर 5 मिनट  से शुरू होकर 12 बजकर 55 मिनट तक चलेगा.


अयोध्या में हो रहे राम लला की प्राण प्रतिष्ठा की गूंज पूरे देश में है और लोग इसे दीवाली की तरह मना रहे हैं. भारत के साथ-साथ अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की चर्चा विदेशों में भी खूब हो रही हैं. पाकिस्तान के अखबारों ने इसे लेकर लिखा है कि 'बाबरी मस्जिद को गिराकर बनाए गए राम मंदिर में आज पीएम रामलला की प्राण प्रतिष्ठा करने जा रहे हैं. 


पाकिस्तान के प्रमुख अखबार, 'द डॉन' ने एक ऑपिनियन लेख प्रकाशित किया है जिसमें लेखक परवेज हुदभोय ने लिखा है कि जहां पहले पांच शताब्दी पुरानी बाबरी मस्जिद हुआ करती थी, अब वहां राम मंदिर बन रहा है. राम मंदिर के चारों तरफ वेटिकन सिटी जैसा शहर बनने को तैयार है ।


लेख में आगे लिखा गया है, 'हिंदुत्व का संदेश दो वर्गों को टारगेट करता है. पहला है- भारत के मुसलमान, जिस तरह पाकिस्तान अपनी हिंदू आबादी को कम अधिकारों वाले दोयम दर्जे के नागरिकों के रूप में देखता है, उसी तरह भारत में मुसलमानों को भी यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि वे उन आक्रमणकारियों की अनचाही संतान हैं जिन्होंने एक प्राचीन भूमि को बर्बाद कर दिया और उसकी महिमा को लूट लिया.'


लेख में कहा गया है कि 'नए भारत में अब धार्मिक साम्प्रदायिकता घृणा की तरह नहीं मानी जाती है.' 

लेबल: ,

राम जन्मभूमी: अयोध्या कहां है? Where is Ram Janmabhoomi?

 राम जन्मभूमी: अयोध्या के बारे में 10 ऐतिहासिक तथ्य

अयोध्या कहां है?

यह भारत के उत्तरी क्षेत्र में, उत्तर प्रदेश राज्य के केंद्र में स्थित है. यह सरयू नदी के तट पर स्थित है और महान उत्तरी मैदानों का एक हिस्सा है. अयोध्या की जलवायु उष्णकटिबंधीय है जो गर्मियों में गर्म होती है और सर्दियाँ ठंडी होती है. दक्षिण-पश्चिमी मानसून की बारिश लगभग जुलाई-सितंबर में अयोध्या में होती है. यह लखनऊ के पूर्व से लगभग 130 किमी और फैजाबाद से लगभग 7 किमी दूर है.



अयोध्या में दर्शनीय स्थल कौन-कौन से हैं?

भगवान राम का जन्मस्थान और एक प्राचीन शहर होने के कारण, अयोध्या में कई मंदिर, और ऐतिहासिक स्थान हैं. यहाँ भगवान राम की जन्मभूमि है. अन्य स्थान इस प्रकार हैं: राम की पैड़ी, जैन मंदिर, बिड़ला मंदिर, गुलाब बाड़ी, बहू बेगम का मकबरा, कनक भवन, नया घाट, गुप्तार घाट, और सैन्य मंदिर, इत्यादि.

अयोध्या: संस्कृति और विरासत

सूर्यवंशियों के राज्य से, जिले की सांस्कृतिक विरासत की उत्पत्ति हुई. सूर्यवंशी क्षत्रियों के वंश में राजा रघु के कारण, सूर्यवंश रघुवंश के रूप में लोकप्रिय हुआ. भगवान राम का जन्म राजा रघु की तीसरी पीढ़ी में हुआ था. इसमें कोई संदेह नहीं कि प्राचीन भारत के इतिहास में, रामायण का काल सबसे गौरवशाली काल था. यह युग न केवल पवित्रतम शास्त्रों, वेदों और अन्य साहित्य की रचना के लिए प्रसिद्ध था, जिसने भारतीय संस्कृति और सभ्यता की नींव रखी, बल्कि इसके कानून और सत्यता के अनुकरणीय शासन के लिए भी. भगवान राम रामायण के 'आदर्श पुरुष' थे. रामायण की सबसे बड़ी घटना भगवान राम का वनवास जाना है. इसके अलावा फैजाबाद का भी भारतीय इतिहास में विशेष स्थान है. इसमें कई ऐतिहासिक और धार्मिक स्थान शामिल हैं.

अयोध्या कैसे पहुंचे?

अयोध्या सड़क के माध्यम से अन्य स्थानों से अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है और मुख्य राजमार्ग पर स्थित है, जो फैजाबाद से गोरखपुर के रास्ते पर शहर से गुजरता है. उत्तर प्रदेश परिवहन निगम की बसों की सेवाएं प्रत्येक दिन 24 घंटे उपलब्ध हैं. कई स्थानों से बसें भी उपलब्ध हैं जो वाराणसी, इलाहाबाद, इत्यादि से अपने शेड्यूले के अनुसार हैं.

फैजाबाद से निकटतम हवाई अड्डा लखनऊ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है. गोरखपुर, इलाहाबाद और वाराणसी हवाई अड्डे से भी लोग पहुँच सकते हैं.

जिले के प्रमुख रेलवे स्टेशन फैजाबाद और अयोध्या हैं और लगभग सभी प्रमुख शहरों और कस्बों से अच्छी तरह से जुड़े हुए हैं. रेल मार्ग द्वारा फैजाबाद 128 कि.मी. लखनऊ से, 171 कि.मी. गोरखपुर से, 157 कि.मी. इलाहाबाद से, और वाराणसी से 196 कि.मी. रेल मार्ग द्वारा अयोध्या 135 किलोमीटर है. लखनऊ से, 164 कि.मी. गोरखपुर से, 164 कि.मी. इलाहाबाद से और वाराणसी से 189 कि.मी. है.

तो अब आपको अयोध्या, उसकी विरासत और संस्कृति, दर्शनीय स्थलों और अयोध्या तक कैसे पहुंचा जा सकता है के बारे में ज्ञात  हो गया होगा.

लेबल: ,

राम मंदिर का इतिहास History Of Ram Temple ख़ास आपके लिए

 राम मंदिर का इतिहास History Of Ram Temple ख़ास आपके लिए 



  • 1528: अयोध्या में राम जन्मभमूमि पर मस्जिद बनने से शुरु हुआ विवाद
    आइये अब आपको इतिहास में लेकर चलते हैं। किस्सा 1526 से शुरू होता है। ये वो साल था जब मुगल शासक बाबर भारत आया। दो साल बाद बाबर के सूबेदार मीरबाकी ने अयोध्या में एक मस्जिद बनवाई। यह मस्जिद उसी जगह बनी जहां भगवान राम का जन्म हुआ था। बाबर के सम्मान में मीर बाकी ने इस मस्जिद का नाम बाबरी मस्जिद दिया। ये वो दौर था जब मुगल शासन पूरे देश में फैल रहा था। मुगलों और नवाबों के शासन के दौरान 1528 से 1853 तक इस मामले में हिंदू बहुत मुखर नहीं हो पाए। 19वीं सदी में मुगलों और नवाबों का शासन कमजोर पड़ने लगा। अंग्रेज हुकूमत प्रभावी हो चुकी थी। इस दौर में ही हिंदुओं ने यह मामला उठाया और कहा कि भगवान राम के जन्मस्थान मंदिर को तोड़कर मस्जिद बना ली गई। इसके बाद से रामलला के जन्मस्थल को वापस पाने की लड़ाई शुरू हुई। 
     
  • 1858: बाबरी मस्जिद बनने के 330 साल बाद शुरू हुई पहली एफआईआर 
    मीरबाकी के मस्जिद बनाने के 330 साल बाद 1858 में लड़ाई कानूनी हो गई, जब पहली बार परिसर में हवन, पूजन करने पर एक एफआईआर हुई। अयोध्या रिविजिटेड किताब के मुताबिक एक दिसंबर 1858 को अवध के थानेदार शीतल दुबे ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि परिसर में चबूतरा बना है। ये पहला कानूनी दस्तावेज है जिसमें परिसर के अंदर राम के प्रतीक होने के प्रमाण हैं। इसके बाद तारों की एक बाड़ खड़ी कर विवादित भूमि के आंतरिक और बाहरी परिसर में मुस्लिमों और हिंदुओं को अलग-अलग पूजा और नमाज की इजाजत दी गई।
  • 1885: जब अदालत पहुंची राम के लिए पक्के घर की बात
    1858 में हुई घटना के 27 साल बाद 1885 में राम जन्मभूमि के लिए लड़ाई अदालत पहुंची। जब, निर्मोही अखाड़े के मंहत रघुबर दास ने फैजाबाद के न्यायालय में स्वामित्व को लेकर दीवानी मुकदमा दायर किया। दास ने बाबरी ढांचे के बाहरी आंगन में स्थित राम चबूतरे पर बने अस्थायी मंदिर को पक्का बनाने और छत डालने की मांग की। जज ने फैसला सुनाया कि वहां हिंदुओं को पूजा-अर्चना का अधिकार है, लेकिन वे जिलाधिकारी के फैसले के खिलाफ मंदिर को पक्का बनाने और छत डालने की अनुमति नहीं दे सकते।
     
  • 1949: मूर्तियों का प्रकटीकरण
    एक ओर जहां देशभर में अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन चलाकर आजादी लेने की मुहिम जारी रही, वहीं दूसरी ओर राम जन्मभूमि की लड़ाई भी जारी रही। देश के आजाद होने के दो साल बाद 22 दिसंबर 1949 को ढांचे के भीतर गुंबद के नीचे मूर्तियों का प्रकटीकरण हुआ। 
  • 1950: आजादी के बाद पहला मुकदमा
    आजादी के बाद पहला मुकदमा हिंदू महासभा के सदस्य गोपाल सिंह विशारद ने 16 जनवरी, 1950 को सिविल जज, फैजाबाद की अदालत में दायर किया। विशारद ने ढांचे के मुख्य गुंबद के नीचे स्थित भगवान की प्रतिमाओं की पूजा-अर्चना की मांग की। करीब 11 महीने बाद 5 दिसंबर 1950 को ऐसी ही मांग करते हुए महंत रामचंद्र परमहंस ने सिविल जज के यहां मुकदमा दाखिल किया। मुकदमे में दूसरे पक्ष को संबंधित स्थल पर पूजा-अर्चना में बाधा डालने से रोकने की मांग रखी गई। 

    3 मार्च 1951 को गोपाल सिंह विशारद मामले में न्यायालय ने मुस्लिम पक्ष को पूजा-अर्चना में बाधा न डालने की हिदायत दी। ऐसा ही आदेश परमहंस की तरफ से दायर मुकदमे में भी दिया गया।
  • 1959: निर्मोही अखाड़े ने मांगी पूजा-अर्चना की अनुमति 
    17 दिसंबर 1959 को रामानंद संप्रदाय की तरफ से निर्मोही अखाड़े के छह व्यक्तियों ने मुकदमा दायर कर इस स्थान पर अपना दावा ठोका। साथ ही मांग रखी कि रिसीवर प्रियदत्त राम को हटाकर उन्हें पूजा-अर्चना की अनुमति दी जाए। यह उनका अधिकार है। मुकदमों की कड़ी में एक और मुकदमा 18 दिसंबर 1961 को दर्ज किया गया। ये मुकदमा उत्तर प्रदेश के केंद्रीय सुन्नी वक्फ बोर्ड ने दायर किया। कहा कि यह जगह मुसलमानों की है। ढांचे को हिंदुओं से लेकर मुसलमानों को दे दिया जाए। ढांचे के अंदर से मूर्तियां हटा दी जाएं। ये मामले न्यायालय में चलते रहे। फैसलों की बात करें उससे पहले राम काज के लिए हुए कुछ और आंदोलनों की तरफ चलते हैं। 
     
  • 1982: हिंदू धर्मस्थलों की मुक्ति का अभियान
    बात 1982 की है। ये वो साल था जब विश्व हिंदू परिषद ने राम, कृष्ण और शिव के स्थलों पर मस्जिदों के निर्माण को साजिश करार दिया और इनकी मुक्ति के लिए अभियान चलाने का एलान किया। दो साल बाद 8 अप्रैल 1984 को दिल्ली में संत-महात्माओं, हिंदू नेताओं ने अयोध्या के श्रीराम जन्मभूमि स्थल की मुक्ति और ताला खुलवाने को आंदोलन का फैसला किया। 
  • 1986: परिसर का ताला खुला
    मुकदमों की बात हुई है तो फिर से कानूनी लड़ाई की ओर चलते हैं और बात फैसलों की करते हैं। एक फैसला 1 फरवरी 1986 को आया जब फैजाबाद के जिला न्यायाधीश केएम पाण्डेय ने स्थानीय अधिवक्ता उमेश पाण्डेय की अर्जी पर इस स्थल का ताला खोलने का आदेश दे दिया। फैसले के खिलाफ इलाहाबाद उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में दायर अपील खारिज हो गई। 
  • 1989: राम जन्मभूमि पर मंदिर का शिलान्यास
    जनवरी 1989 में प्रयाग में कुंभ मेले के दौरान मंदिर निर्माण के लिए गांव-गांव शिला पूजन कराने का फैसला हुआ। साथ ही 9 नवंबर 1989 को श्रीराम जन्मभूमि स्थल पर मंदिर के शिलान्यास की घोषणा की गई। काफी विवाद और खींचतान के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने शिलान्यास की इजाजत दे दी। बिहार निवासी कामेश्वर चौपाल से शिलान्यास कराया गया।
  • 1990: आडवाणी ने शुरु की रथ यात्रा, आंदोलन को दी धार
    1990 के दशक में आंदोलन तेज हो रहा था। इस बीच सितंबर 1990 को लाल कृष्ण आडवाणी रथ यात्रा लेकर निकले। इस यात्रा ने राम जन्मभूमि आंदोलन को और धार दे दी। देश की राजनीति तेजी से बदल रही थी। आडवाणी गिरफ्तार हुए। गिरफ्तारी के साथ केंद्र में सत्ता परिवर्तन भी हुए। भाजपा के समर्थन से बनी जनता दल की सरकार गिर गई। कांग्रेस के समर्थन से चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बने। ये सरकार भी ज्यादा नहीं चली। नए सिरे से चुनाव हुए और एक बार फिर केंद्र में कांग्रेस सत्ता में आई। इन सब के बीच आई वो ऐतिहासिक तारीख जिसका जिक्र किए बिना ये किस्सा पूरा नहीं हो सकता है। 
  • 1992: विवादित ढांचा गिरा, कल्याण सरकार बर्खास्त
    तारीख थी 6 दिसंबर 1992, इस दिन अयोध्या पहुंचे हजारों कारसेवकों ने विवादित ढांचा गिरा दिया। इसकी जगह इसी दिन शाम को अस्थायी मंदिर बनाकर पूजा-अर्चना शुरू कर दी। केंद्र की तत्कालीन पीवी नरसिम्हा राव सरकार ने राज्य की कल्याण सिंह सरकार सहित अन्य राज्यों की भाजपा सरकारों को भी बर्खास्त कर दिया। उत्तर प्रदेश सहित देश में कई जगह सांप्रदायिक हिंसा हुई, जिसमें अनेक लोगों की मौत हो गई। अयोध्या श्रीराम जन्मभूमि थाना में ढांचा ध्वंस मामले में भाजपा के कई नेताओं समेत हजारों लोगों पर मुकदमा दर्ज कर दिया गया। इसके साथ ही राम काज की कानूनी लड़ाई में मुकदमों की संख्या में और इजाफा होने लगा। 
  • 1993: दर्शन-पूजन की अनुमति मिल गई
    बाबरी ढहाए जाने के दो दिन बाद 8 दिसंबर 1992 को अयोध्या में कर्फ्यू लगा था। वकील हरिशंकर जैन ने उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ में गुहार लगाई कि भगवान भूखे हैं। राम भोग की अनुमति दी जाए। करीब 25 दिन बाद 1 जनवरी 1993 को न्यायाधीश हरिनाथ तिलहरी ने दर्शन-पूजन की अनुमति दे दी। 7 जनवरी 1993 को केंद्र सरकार ने ढांचे वाले स्थान और कल्याण सिंह सरकार द्वारा न्यास को दी गई भूमि सहित यहां पर कुल 67 एकड़ भूमि का अधिग्रहण कर लिया। 
  • 2002: हाईकोर्ट में शुरू हुई मालिकाना हक पर सुनवाई
    अप्रैल 2002 में उच्च न्यायालय की लखनऊ खंडपीठ ने विवादित स्थल का मालिकाना हक तय करने के लिए सुनवाई शुरू हुई। उच्च न्यायालय ने 5 मार्च 2003 को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण को संबंधित स्थल पर खुदाई का निर्देश दिया। 22 अगस्त  2003 को भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने न्यायालय को रिपोर्ट सौंपी। इसमें संबंधित स्थल पर जमीन के नीचे एक विशाल हिंदू धार्मिक ढांचा (मंदिर) होने  की बात कही गई।
  • 2010: इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने दिया ऐतिहासिक फैसला
    30 सितंबर 2010 को इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने इस स्थल को तीनों पक्षों श्रीराम लला विराजमान, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड में बराबर-बराबर बांटने का आदेश दिया। न्यायाधीशों ने बीच वाले गुंबद के नीचे जहां मूर्तियां थीं, उसे जन्मस्थान माना। इसके बाद मामला सर्वोच्च न्यायालय पहुंचा। 21 मार्च 2017 को सर्वोच्च न्यायालय ने मध्यस्थता से मामले सुलझाने की पेशकश की। यह भी कहा कि दोनों पक्ष राजी हों तो वह भी इसके लिए तैयार है। 
  • 2017: सर्वोच्च न्यायालय द्वारा मध्यस्थता की पेशकश
    अयोध्या में राम जन्मभूमि की लड़ाई अब देश की सर्वोच्च अदालत तक पहुंच चुकी थी। 21 मार्च 2017 को सर्वोच्च न्यायालय ने मध्यस्थता से मामले सुलझाने की पेशकश की। यह भी कहा कि दोनों पक्ष राजी हों तो वह भी इसके लिए तैयार है। 
  • 2019: सुप्रीम फैसला और मंदिर निर्माण का रास्ता साफ 
    6 अगस्त 2019 को सर्वोच्च न्यायालय ने प्रतिदिन सुनवाई शुरू की। 16 अक्तूबर 2019 को सर्वोच्च न्यायालय में सुनवाई पूरी हुआ और कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रख लिया। इससे पहले 40 दिन तक लगातार सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई।

    9 नवंबर 2019 को 134 साल से चली आ रही लड़ाई में अब वक्त था अंतिम फैसले का। 9 नवंबर 2019 को सर्वोच्च न्यायालय ने संबंधित स्थल को श्रीराम जन्मभूमि माना और 2.77 एकड़ भूमि रामलला के स्वामित्व की मानी। वहीं, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड के दावों को खारिज कर दिया गया। इसके साथ ही कोर्ट ने निर्देश दिया कि मंदिर निर्माण के लिए केंद्र सरकार तीन महीने में ट्रस्ट बनाए और ट्रस्ट निर्मोही अखाड़े के एक प्रतिनिधि को शामिल करे। इसके अलावा यह भी आदेश दिया कि उत्तर प्रदेश की सरकार मुस्लिम पक्ष को वैकल्पिक रूप से मस्जिद बनाने के लिए 5 एकड़ भूमि किसी उपयुक्त स्थान पर उपलब्ध कराए।
  • 2020: अयोध्या में मंदिर की आधारशिला के साथ निर्माण शुरू
    इसी के साथ दशकों से चली आ रही लंबी कानूनी लड़ाई समाप्त हो गई। अब बारी थी निर्माण की 5 फरवरी 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में मंदिर निर्माण के लिए राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की घोषणा की। ठीक छह महीने बाद 5 अगस्त 2020 को अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला रखी गई, जिसमें पीएम मोदी शामिल हुए।
  • 2024: भव्य मंदिर में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा
    134 साल चली कानूनी लड़ाई के बाद अब अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण हो रहा है। राम जन्मभूमि पर मंदिर के पहले चरण का काम पूरा हो गया है। 22 जनवरी 2024 की वह ऐतिहासिक तारीख है जब मंदिर में भगवान राम की प्राण प्रतिष्ठा हो रही है। 23 जनवरी से मंदिर आम लोगों के लिए खुल जाएगा।

लेबल: ,

राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा Ram Mandir Inauguration Time

 राम मंदिर प्राण प्रतिष्ठा: 22 जनवरी का पूजा अनुष्ठान होगा Ram Mandir Inauguration Time

आज यानी 22 जनवरी 2024 को अभिजीत मुहूर्त में रामलला की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। दोपहर 12 बजकर 29 मिनट और 08 सेकंड से लेकर 12 बजकर 30 मिनट और 32 सेकंड का शुभ मुहूर्त निर्धारित है। इसी मुहूर्त में भगवान राम की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा होगी।


Ram Mandir Inauguration Time

लेबल: ,

रविवार, 21 जनवरी 2024

सानिया मिर्जा का शोएब मलिक से तलाक: इस्लाम में तलाक और खुला में क्या अंतर है?

 शोएब मलिक ने 20 जनवरी को एक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए खुलासा किया था कि उन्होंने मशहूर पाकिस्तानी एक्ट्रेस सना जावेद से शादी कर ली है. यह उनकी तीसरी शादी थी. इस घोषणा ने सानिया मिर्जा से उनके अलग होने की अटकलों पर विराम लगा दिया। हालाँकि शुरुआत में यह स्पष्ट नहीं था कि मलिक और भारतीय टेनिस दिग्गज का तलाक हो गया है, लेकिन बाद में अधिक स्पष्टता आ गई।


एक पारिवारिक सूत्र ने पीटीआई को बताया कि सानिया मिर्जा ने ही तलाक के लिए अर्जी दी है। सूत्र ने कहा, "यह 'खुला' था। मैं इससे आगे कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता।"
पाकिस्तानी प्रकाशन जियो टीवी ने पहले बताया था कि तलाक की कार्यवाही 2022 के अंत में शुरू हो गई थी। इसने सूत्रों के हवाले से खुलासा किया कि सानिया मलिक के अन्य महिलाओं से मिलने से नाखुश थी। हालाँकि वह कुछ समय से इसे नज़रअंदाज कर रही थी, लेकिन भारत की अब तक की सबसे बेहतरीन महिला टेनिस खिलाड़ी ने अपने पति के साथ अपना धैर्य खो दिया और यह कदम उठाया।

तलाक़ में पति तलाक़ देने का फ़ैसला करता है। वह अपनी पत्नी से कहता है कि वह तलाक चाहता है, या तो बोलकर या लिखकर। फिर, एक प्रतीक्षा समय होता है जिसे 'इद्दह' कहा जाता है यह देखने के लिए कि क्या वे चीजों को ठीक कर सकते हैं। यदि वे नहीं कर सकते, तो इस समय के बाद तलाक अंतिम है।

इसके विपरीत खुला में पत्नी तलाक के लिए पहल करती है। आमतौर पर, वह अपना दहेज या शादी के तोहफे वापस कर देती है। तलाक़ की तरह, यहां भी इंतज़ार का समय है, लेकिन यहां मामला पत्नी के जाने की इच्छा के बारे में है।

लेबल: ,

एडम हैरिसन की ड्रग ओवरडोज़ से मृत्यु:

 रिक हैरिसन के 39 वर्षीय बेटे एडम की नशीली दवाओं के ओवरडोज़ के कारण मृत्यु हो गई है। अपने रियलिटी शो, "पॉन स्टार्स" के लिए मशहूर, इस अप्रत्याशित त्रासदी ने प्रशंसकों और परिवार के सदस्यों को दुखी कर दिया है।

पॉन स्टार्स' सेलिब्रिटी रिक हैरिसन के बेटे एडम हैरिसन का 39 साल की उम्र में नशीली दवाओं के ओवरडोज़ के कारण निधन हो गया।

एडम हैरिसन, 1984 में पैदा हुए, रिक हैरिसन की पहली शादी से दूसरे बेटे हैं। जबकि कोरी, उसका बड़ा भाई, "पॉन स्टार्स" पर एक जाना-पहचाना चेहरा है, एडम ने परिवार के गिरवी दुकान के व्यवसाय से खुद को दूर करते हुए एक साधारण जीवन जीना पसंद किया।

लेबल: ,

शुक्रवार, 19 जनवरी 2024

VITAMIN A स्वस्थ और चमकदार त्वचा पाने के लिए आपको विटामिन-A से भरपूर कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए।

 स्वस्थ और चमकदार त्वचा पाने के लिए आपको विटामिन-A से भरपूर कुछ खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए। स्वस्थ और बेदाग त्वचा के लिए इन 8 विटामिन A युक्त खाद्य पदर्थों को करें अपने आहार में शामिल विटामिन A आपकी त्वचा के स्वास्थ्य के लिए आवश्यक है। 

विटामिन A से भरपूर आहार कई स्वास्थ्य समस्याओं को दूर रख सकता है, मुख्य रूप से इसकी प्रतिरक्षा-बढ़ाने और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के कारण। इन अद्भुत स्वास्थ्य लाभों के अलावा, यह विटामिन आपकी त्वचा के स्वास्थ्य के लिए बहुत बड़ा वरदान साबित हो सकता है।



आपकी त्वचा को कैसे प्रभावित करता है विटामिन ए

त्वचा के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए विटामिन ए आवश्यक हैं। यह त्वचा की कोशिकाओं की मरम्मत करता है और सोरायसिस के खतरे को कम करता है। यह त्वचा की उपचार प्रक्रिया को तेज कर सकता है और ब्रेकआउट को रोक सकता है।

VITAMIN A को आमतौर पर रेटिनॉल के रूप में जाना जाता है। यह एक वसा में घुलनशील विटामिन है, जो शरीर में कई महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करने के लिए जिम्मेदार है। यह आपकी हड्डियों के स्वास्थ्य में सुधार कर सकता है, आपकी दृष्टि और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ा सकता है, प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकता है और आपकी त्वचा को स्वस्थ रख सकता है।

इसके अलावा, यह त्वचा की प्रतिरक्षा प्रणाली का भी समर्थन कर सकता है और प्राकृतिक मॉइस्चराइजिंग को बढ़ावा दे सकता है। जिसका अर्थ है कि यह आपकी त्वचा को हाइड्रेटेड रखता है और आपको एक चमकदार चमक देता है।


यहां त्वचा के लिए कुछ विटामिन A युक्त खाद्य पदार्थ दिए गए हैं:-

1.गाजर CARROT

गाजर में मौजूद बीटा कैरोटीन त्वचा के अनुकूल पोषक तत्व के रूप में काम करता है, जबकि एंटीऑक्सीडेंट की शक्ति आपकी त्वचा को नुकसान से बचाती है। गाजर यह सुनिश्चित करती है कि आपकी त्वचा के स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाने के लिए आपको पर्याप्त विटामिन A मिले। इसके अलावा, वे कब्ज को रोक सकते हैं और आंत के स्वास्थ्य को बढ़ावा दे सकते हैं।


2.ब्रोकोली BROCCOLI 

ब्रोकोली विटामिन A सहित कई विटामिन और खनिजों से भरी हुई है जो आपकी त्वचा के स्वास्थ्य के लिए अच्छी तरह से काम करती है। आप ब्रोकली को अपने पसंदीदा सलाद, पास्ता या पिज्जा आदि में भी शामिल कर सकते हैं।


3.टमाटर TOMATO

अधिकांश सौंदर्य उपचारों में टमाटर एक महत्वपूर्ण घटक के रूप में शामिल होता है। वे बड़े छिद्रों को ठीक करने, मुंहासे का इलाज करने, सनबर्न को शांत करने और सुस्त त्वचा को पुनर्जीवित करने में मदद करते हैं। वे एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन C का एक अच्छा स्रोत हैं, लेकिन विटामिन A का भी एक उत्कृष्ट स्रोत हैं। वास्तव में, हर दिन टमाटर का सेवन करने से त्वचा के कैंसर का खतरा कम हो सकता है।


4.पपीता PAPAYA 

पपीते में मौजूद एंजाइम पपैन और काइमोपैपेन मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाने के लिए एक मजबूत एक्सफोलिएटर के रूप में काम करते हैं। वे सूजन को भी कम कर सकते हैं, जबकि विटामिन A की प्रचुरता आपकी त्वचा और बालों को पोषण देती है।

5.कद्दू KADDU 

कद्दू विटामिन A का एक और समृद्ध स्रोत है और इसमें विभिन्न खनिज, कैल्शियम, पोटेशियम और फास्फोरस होते हैं, जो आपकी त्वचा के लिए अच्छे होते हैं। राष्ट्रीय पोषण संस्थान के अनुसार, 100 ग्राम कद्दू आपको 2100 माइक्रोग्राम विटामिन A देता है।


6.शकरकंद

स्‍वीट पोटेटा यानी शकरकंद एक स्टार्च युक्त और मीठे स्वाद वाली जड़ वाली सब्जी है। वे विटामिन A का एक अत्यंत महत्वपूर्ण स्रोत हैं, क्योंकि इनमें बीटा कैरोटीन का उच्च स्तर होता है। इसलिए अब और न सोचें और अपने दैनिक आहार में शकरकंद को शामिल करें।


7.पालक PALAK

पालक जैसी हरी पत्तेदार सब्जियों में पोषक तत्वों का खजाना होता है जो आपको स्वस्थ और साफ त्वचा देने में मदद करता है। इसके अलावा, यह आपकी त्वचा को सूरज की क्षति से ठीक करने में मदद करता है, त्वचा की चमक को बढ़ाता है और एक प्राकृतिक त्वचा अवरोध को मजबूत करता है। साथ ही, इसकी एंटीऑक्सीडेंट क्षमता त्वचा की विभिन्न समस्याओं से लड़ती है।


लेबल: ,

मैं अटल हूं Main Atal Hoon पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बायोपिक

Main Atal Hoon: पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की बायोपिक फिल्म ‘मैं अटल हूं’ सिनेमाघरों में पहुंच गई है। फिल्म में पंकज त्रिपाठी (Pankaj Tripathi) के अभिनय की काफी सराहना की जा रही है।



यह पहली बार है, जब भारतीय राजनीति के दिग्गज खिलाड़ी रहे अटल बिहारी वाजपेयी (Atal Bihari Vajpayee)के जीवन को पर्दे पर उतारा गया हो।

मैं अटल हूं में उनके जीवन के प्रमुख पड़ावों को दिखाया गया है। हालांकि, राजनेताओं के जीवन की घटनाओं को पहले भी सिल्वर स्क्रीन पर दिखाया जाता रहा है और कई बेहतरीन कलाकारों ने इन बायोपिक्स में ये किरदार निभाये हैं। 

लेबल: ,

मंगलवार, 9 जनवरी 2024

Moto G34 5G स्नैपड्रैगन 695 SoC के साथ भारत में लॉन्च हुआ।

 मोटोरोला ने भारत में स्नैपड्रैगन 695 SoC और 6.5-इंच डिस्प्ले के साथ बजट Moto
G34 5G स्मार्टफोन लॉन्च किया। Moto G34 5G में डुअल रियर कैमरा, 16MP फ्रंट कैमरा और 20W टर्बोचार्जिंग के साथ 5,000mAh की बैटरी है





क्रिसमस और अब अंततः भारतीय बाज़ार में अपनी जगह बना रहा है

मोटोरोला G34 5G स्पेसिफिकेशन

Moto G34 5G में 6.5-इंच HD+ IPS डिस्प्ले है जिसका रिज़ॉल्यूशन 1600 x 720 पिक्सल, रिफ्रेश रेट 120Hz और पीक ब्राइटनेस 500 निट्स है।

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, स्मार्टफोन ग्राफिक्स-गहन कार्यों के लिए एड्रेनो 619 जीपीयू के साथ स्नैपड्रैगन 695 SoC पर चलता है। स्मार्टफोन 8GB तक LPDDR4X रैम और 128GB तक UFS 2.2 स्टोरेज के साथ आएगा। बजट स्मार्टफोन की मेमोरी को माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए 1Tb तक बढ़ाया जा सकता है।

50MP प्राइमरी सेंसर और 2MP मैक्रो लेंस के साथ पीछे की तरफ डुअल कैमरा सेटअप। सेल्फी और वीडियो कॉल के लिए, फ्रंट में f/2.4 अपर्चर के साथ 16MP का सेंसर है।

लेबल: ,

रविवार, 7 जनवरी 2024

प्रधानमंत्री का 3 दिवस गुजरात का दोहरा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 10 जनवरी को गांधीनगर में वाइब्रेंट गुजरात ग्लोबल समिट 2022 का उद्घाटन करेंगे

उन्होंने कहा कि तीन दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन "आत्मनिर्भर गुजरात से आत्मनिर्भर भारत" की थीम पर किया जाएगा

गति शक्ति योजना" पर कार्यक्रम

11 जनवरी को केंद्र की "गति शक्ति योजना" पर कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे कि इस योजना से गुजरात को इंफ्रास्ट्रक्चर और निवेश के क्षेत्र में कैसे फायदा होगा



लेबल: ,

कैप्टन मिलर ट्रेलर:

 धनुष ने अंग्रेजों द्वारा वांछित डकैत की भूमिका निभाई है इस हाई-ऑक्टेन नाटक में


यह फिल्म 12 जनुअरी को रिलीज़ होगी
भारत में अंग्रेजों का नियन्त्रण हे और धनुष के रोल  को इस फिल्म में डाकू माना जाता है
यह फिल्म का ट्रेलर 2 मिनट 54 सेकंड का हे

लेबल: ,

Rinku Singh ka दमदार अर्धशतक

 

Rinku Singh: रिंकू सिंह  ने  रणजी ट्रॉफी में जड़ा दमदार अर्धशतक

 उन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट के साथ-साथ घरेलू मैचों में भी अच्छा परफॉर्म किया है. रिंकू फॉर्म में हैं और जहां भी खेल रहे हैं, कमाल ही कर रहे हैं. रिंकू रणजी ट्रॉफी 2023-24 में उत्तर प्रदेश के लिए खेल रहे हैं. उन्होंने केरल के खिलाफ एक मुकाबले में शानदार बैटिंग करते हुए अर्धशतक जड़ दिया. रिंकू की इस पारी की वजह से यूपी की टीम ने 5 विकेट के नुकसान के साथ 244 रन बना लिए

लेबल: ,

ISRO ने रचा इतिहास

 आदित्य-एल1 को सफलतापूर्वक सूर्य की 'प्रभामंडल' कक्षा में स्थापित किया गया।

आदित्य-एल1, यहीं से करेगा सूरज की स्टडी

इसरो के अनुसार, अंतरिक्ष यान पृथ्वी से लगभग 15 लाख किलोमीटर दूर सूर्य-पृथ्वी प्रणाली के ‘लैग्रेंज प्वाइंट 1’ (एल 1) के आसपास एक प्रभामंडल कक्षा में पहुंचा.‘एल1 प्वाइंट’ पृथ्वी और सूर्य के बीच की कुल दूरी का लगभग एक प्रतिशत है.

लेबल: ,

ICC पुरुष T20 क्रिकेट विश्व कप 2024

 ICC पुरुष T20 क्रिकेट विश्व कप 2024 की घोषणा: विश्व कप 1 जून 2024 से 29 जून 2024 तक वेस्टइंडीज और अमेरिका में आयोजित किया जाएगा।


भारत ग्रुप स्टेज के सभी मैच अमेरिका में खेलेगा. भारत के मैच पर एक नजर


लेबल: ,