अयोध्या में राम जन्मभूमि की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या कह रहा है पाकिस्तानी मीडिया?

 अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा को लेकर क्या कह रहा है पाकिस्तानी मीडिया?


अयोध्या नगरी के राम मंदिर में आज रामलला की प्राण प्रतिष्ठा होनी है जिसे लेकर देशभर में उत्सव का माहौल है. भारत के लेकर विदेशों की मीडिया में भी राम मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा की खबरें चल रही है. इसे लेकर पाकिस्तान और कतर जैसे देशों की मीडिया ने भी रिपोर्टें प्रकाशित की है. 



अयोध्या में बन रहे भव्य राम मंदिर में सोमवार के दिन यानी आज रामलला की प्राण प्रतिष्ठा हो रही है. प्राण प्रतिष्ठा का अनुष्ठान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगा आदित्यनाथ की मौजूदगी में संपन्न किया जाएगा. यह कार्यक्रम दोपहर 12 बजकर 5 मिनट  से शुरू होकर 12 बजकर 55 मिनट तक चलेगा.


अयोध्या में हो रहे राम लला की प्राण प्रतिष्ठा की गूंज पूरे देश में है और लोग इसे दीवाली की तरह मना रहे हैं. भारत के साथ-साथ अयोध्या में रामलला की प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम की चर्चा विदेशों में भी खूब हो रही हैं. पाकिस्तान के अखबारों ने इसे लेकर लिखा है कि 'बाबरी मस्जिद को गिराकर बनाए गए राम मंदिर में आज पीएम रामलला की प्राण प्रतिष्ठा करने जा रहे हैं. 


पाकिस्तान के प्रमुख अखबार, 'द डॉन' ने एक ऑपिनियन लेख प्रकाशित किया है जिसमें लेखक परवेज हुदभोय ने लिखा है कि जहां पहले पांच शताब्दी पुरानी बाबरी मस्जिद हुआ करती थी, अब वहां राम मंदिर बन रहा है. राम मंदिर के चारों तरफ वेटिकन सिटी जैसा शहर बनने को तैयार है ।


लेख में आगे लिखा गया है, 'हिंदुत्व का संदेश दो वर्गों को टारगेट करता है. पहला है- भारत के मुसलमान, जिस तरह पाकिस्तान अपनी हिंदू आबादी को कम अधिकारों वाले दोयम दर्जे के नागरिकों के रूप में देखता है, उसी तरह भारत में मुसलमानों को भी यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि वे उन आक्रमणकारियों की अनचाही संतान हैं जिन्होंने एक प्राचीन भूमि को बर्बाद कर दिया और उसकी महिमा को लूट लिया.'


लेख में कहा गया है कि 'नए भारत में अब धार्मिक साम्प्रदायिकता घृणा की तरह नहीं मानी जाती है.' 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ